सरस जनवाद

दो वर्ष बाद हो सकेंगे माता नंदा-सुनंदा के दर्शन

Share

नैनीताल :- इस वर्ष दो बाद श्रद्धालु नैनीताल के ऐतिहासिक नंदादेवी महोत्सव के दौरान माता नंदा-सुनंदा के प्रत्यक्ष दर्शन कर पाएंगे। साथ ही बड़ी स्क्रीन पर भी महोत्सव का सीधा प्रसारण किया जाएगा। डीएम धीराज गर्ब्याल द्वारा महोत्सव की आयोजक संस्था श्रीराम सेवक सभा एवं नंदा देवी मंदिर का प्रबंधन करने वाली अमर उदय ट्रस्ट के पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में यह तय हुआ। तय हुआ कि महोत्सव कोविड के दिशा-निर्देशों के अनुसार होगा, लेकिन सभी धार्मिक कार्यक्रम परंपरा एवं रीति-रिवाज के साथ आयोजित किए जाएंगे। श्री गर्ब्याल ने इस दौरान महोत्सव स्थल श्री मां नयना देवी मंदिर का अवलोकन भी किया और आयोजकों एवं नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी अशोक कुमार वर्मा व एसडीएम प्रतीक जैन को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

श्री गर्ब्याल ने कहा कि कदली वृक्ष के साथ नगर भ्रमण, मेले के दौरान भंडारा एवं प्रसाद वितरण एवं नंदा देवी महोत्सव के अंतिम दिन डोले का नगर भ्रमण नहीं किया जायेगा। साथ ही मंदिर में माता नंदा-सुनंदा के दर्शन के दौरान कोविड गाइड लाइन का पूर्ण अनुपालन किया जायेगा। मंदिर परिसर के अंदर सीमित संख्या में श्रद्धालुओं का प्रवेश होगा, और कोविड नियमों का पूर्ण पालन करते हुए दर्शन कराये जायेंगे। श्रद्धालुओं को मास्क पहनने व सामाजिक दूरी के नियमों का पूर्णतया पालन सुनिश्चित करना होगा।

उल्लेखनीय है कि नगर में नंदा देवी महोत्सव 1902 से बीच में दो विश्व युद्ध होने के बावजूद लगातार आयोजित किया जा रहा है। इस बीच गत वर्ष कोविड की परिस्थितियों के बीच भी महोत्सव तो आयोजित हुआ था, लेकिन श्रद्धालु माता नंदा-सुनंदा की प्राकृत पर्वताकार मूर्तियों के दर्शन नहीं कर पाए थे। महोत्सव के तहत पहली बार माता की शोभायात्रा-डोला नहीं निकल पाया था और मूर्तियों का पाषाण देवी मंदिर के पास की जगह नयना देवी मंदिर के पास से ही नैनी झील में विसर्जित कर दिया गया था।