सरस जनवाद

पुलिस की मिलीभगत से एक्सप्रेस वे पर डीजल चोरी करने वाले गिरोह का हुआ पर्दाफाश

Share

ग्रेटर नोएडा। साइट पांच कोतवाली पुलिस ने ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे पर डीजल चोरी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर दो आरोपियों को धर दबोचा है। सूत्रों ने दावा किया है कि पुलिस की मिलीभगत से डीजल चोरी का काम किया जा रहा था। गिरोह में कुल छह आरोपित शामिल है। चार आरोपी अभी फरार है।

मेरठ के सिवालखास का रहने वाला मुकर्रम गिरोह का सरगना है। मेरठ में ही चोरी का डीजल खपाया जा रहा है। बदमाश ट्रक लूट का फर्जी मुकदमा भी दर्ज करवाते थे। आरोपितों के कब्जे से डीजल चोरी में इस्तेमाल किए जाने वाला कंटेनर सहित कई अन्य उपकरण बरामद किए गए हैं।

एसपी देहात रणविजय सिंह ने बताया कि डीजल चोर गिरोह का पर्दाफाश साइट पांच कोतवाली प्रभारी प्रभात दीक्षित की टीम ने किया गया है। दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान मुरसलीम निवासी हापुड़ व सलमान निवासी बुलंदशहर के रूप में हुई है।

गौरताब है कि आरोपी सलमान पीड़ित बनकर पुलिस के पास पहुंचा था। उसने पुलिस को कंटेनर लूट की सूचना दी थी। जांच में लूट की सूचना को फर्जी पाया गया। पुलिस जांच में पता चला कि चालक परवेज उर्फ कालू उर्फ कल्लू निवासी मेरठ कंटेनर अपने साथ ले गया है। वह भी गिरोह का सदस्य है। जब आरोपी सलमान से पूछताछ की तो वह अपने बयान बदलने लगा। शक होने पर पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की।

पूछताछ में पता चला कि कंटेनर लूट की फर्जी सूचना दी गई थी। पुलिस ने कंटेनर बरामद कर लिया है। इसके बाद पुलिस ने जांच की तो पता चला कि आरोपित डीजल चोर है। आरोपित ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे पर खड़ी गाडि़यों से डीजल चोरी करते थे। यदि किसी ट्रक का चालक या हेल्पर उनको देख लेता तो आरोपी उसे हथियार के बल पर बंधक बना लेते थे।

पुलिस ने आरोपित मुरसलीम व सलमान के कब्जे से एक ट्रक, वैगनआर कार, दो प्लास्टिक ड्रम, तीन बाल्टी, एक पाइप, कुप्पी व तमंचा बरामद किया है।

एक आरोपी ने पुलिस पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि गाड़ियों से तेल चोरी और लूटपाट की कई घटनाएं करने पर उनके वाहन की पहचान हो जाती थी जिसके चलते वे वाहन को गायब कर इंश्योरेंस की रकम ले लेते थे। पिछले पांच साल से आरोपित ऐसी कई घटनाओं को अंजाम दे रहे थे। अब जाकर उन्हें कानून की ताकत का तकाज़ा हुआ है।