सरस जनवाद

रोकथाम के लिए चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार बैठक

Share

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका और दूसरी लहर की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार समीक्षा बैठक कर रहे हैं। इसी कड़ी में आज (शुक्रवार) को पीएम 6 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं। इन राज्यों में तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश , कर्नाटक, केरल , ओडिशा और महाराष्ट्र हैं। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए यह बैठक हो रही हैं। बीते दिनों प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर वहां की स्थितियों के बारे में जानकारी ली थी। इन राज्यों में कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ने लगे हैं।

आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, इस बैठक में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगनमोहन रेड्डी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येद्दियुरप्पा, ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से शामिल हुए। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख भाई मांडविया भी इस बैठक में उपस्थित थे।

मंगलवार को पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में पीएम मोदी ने पहाड़ों और बाजारों में भीड़ बढ़ने और कोरोना नियमों का पालन नहीं करने को लेकर चिंता जाहिर की थी। साथ ही उन्होंने माइक्रो-कंटेनमेंट जोन पर भी जोर देने की बात कही थी।

.ओडिशा और तमिलनाडु में वैक्सीन की शिकायत
खास बात यह है कि ओडिशा और तमिलनाडु राज्य भी इस बैठक में हिस्सा ले रहे हैं, जो वैक्सीन की कमी की शिकायत करते रहे हैं। ओडिशा में वैक्सीन के अभाव में इस हफ्ते टीकाकरण कार्यक्रम पर रोक दिया गया था। राज्य के स्वास्थ्य सचिव पीके महापात्रा ने कहा था, ‘जुलाई के लिए कोविशील्ड के 25 लाख डोज का आवंटन किया गया था, जबकि हमें इस महीने दूसरे डोज के लिए कम से कम 28.3 लाख खुराकों की जरूरत थी।

बीते 24 घंटे में 41 हजार नए मामले
देश में कोरोना के रोजाना कितने केस आ रहे हैं। देश में गुरुवार को 41 हजार 806 नए मामले सामने आए, जिसमें से 28 हजार 691 मामले इन्हीं राज्यों के हैं। केरल में 13 हजार 773, आंध्र प्रदेश में 2 हजार 526, तमिलनाडु में 2 हजार 405, महाराष्ट्र में 8 हजार 10, ओडिशा में 2 हजार 110 और कर्नाटक में 1 हजार 977 मामले सामने आए हैं।