सरस जनवाद

राजस्थान पुलिस ने गैंगरेप के मामले को सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

Share

राजस्थान की भीलवाड़ा पुलिस ने गैंगरेप के एक मामले को महज 3 घंटे में सुलझा लेने का दावा किया है. पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर सामूहिक बलात्कार के मामले का खुलासा कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपियों ने गैंगरेप के साथ-साथ लूट की वारदात को भी अंजाम दिया था.

भीलवाड़ा पुलिस का दावा है कि गैंगरेप के मामले को सुलझाने के लिए 5 टीम गठित की गईं थी. जिनमें 100 पुलिसकर्मियों को शामिल किया गया था. इन टीमों ने गुलाबपुरा कस्बे और राष्ट्रीय राजमार्ग के 60 से अधिक सीसीटीवी कैमरे को खंगाला और मामले की तफ्तीश को आगे बढाया.

पुलिस जांच के दौरान पता चला कि पीड़ित महिला को काम दिलवाने के बहाने दो आरोपी जंगल के रास्ते लेकर गए और वहां उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया. यही नहीं महिला के जेवर और नगदी भी आरोपियों ने लूट लिए थे.

पुलिस का दावा है कि इस पूरे मामले का खुलासा 3 घंटे के अंदर सीसीटीवी फुटेज के आधार पर किया गया है. घटना में जिस मोटरसाइकिल का इस्तेमाल किया गया. उसके नंबर के आधार पर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. यह पूरी कार्रवाई गुलाबपुरा थाना अधिकारी सतीश मीणा की अगुवाई में की गई और लूटे गए जेवर और नगदी भी बरामद कर लिए गए हैं.

भीलवाड़ा के पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा ने बताया कि “गैंगरेप के घटनास्‍थल और आसपास के सीसीटीवी फुटेज का बार-बार अवलोकन किया गया. घटना स्‍थल पर सुबह मजदूरी के लिए जमा होने वाले सैंकडों मजदूरों से गहन पूछताछ की गई. फिल्‍ड इंटेलिजेंस और फुटेज में दिखने वाले संदिग्‍ध मोटरसाइकिल नम्‍बरों की पहचान और उसका कलर और मैक का डाटा प्राप्‍त कर उनकी गहन छानबीन की गई. कई स्‍थानों पर दबिश दी गई.

इसी दौरान के मोटरसाइकिल नम्‍बरों की जांच पड़ताल के चलते विजयनगर, गुलाबपुरा और मसूदा के आसपास आरोपियों के होने की जानकारी मिली. सूचना के आधार पर दबिश देकर गैंगरेप के आरोपी गणेशपुरा थाना गुलाबपुरा निवासी देवालाल माली और तहनाल थाना शाहपुरा के निवासी तेजू नायक को गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ में आरोपियों ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया.”