सरस जनवाद

सर्दी की रातों में आग सेंकना पड़ेगा महंगा, लगेगा जुर्माना

Share

ग्रेटर नोएडा। सर्दी की शुरुआत के साथ ही प्रदूषण का स्तर बढ़ना शुरू हो जाता है। जगह-जगह कूड़ा जलाए जाने से भी प्रदूषण में इजाफा होता है। इस बार सर्दियों में हालात नहीं बिगड़ें, इसके लिए उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (यूपीपीसीबी) ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है।

इस संबंध में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को भी कार्य योजना बनाकर काम करने को कहा गया है। प्रदूषण का स्तर बढ़ने की स्थिति में निर्माण कार्य भी बंद कराए जा सकते हैं। यूपीपीसीबी के अफसरों का कहना है कि ग्रेटर नोएडा और ग्रेनो वेस्ट में अलग-अलग टीमों को लगाया गया है। यह टीमें दिन के अलावा रात में भी नजर रखेंगी। यदि कोई कूड़ा जलाते पाया जाता है तो उस पर जुर्माना लगाने के साथ अन्य कार्रवाई भी की जाएंगी।

ग्रेटर नोएडा में सोमवार को वायु की गुणवत्ता 95 और ग्रेनो वेस्ट में 100 रही। सर्दी के मौसम में इसका स्तर बढ़कर 500 तक पहुंच जाता है। इतने प्रदूषित वातावरण में सांस लेना भी मुश्किल होता है। दमा के रोगियों को सबसे ज्यादा परेशानी उठानी पड़ती है। दिल्ली एनसीआर में आपातकाल जैसे हालात हो जाते हैं। दो साल पहले ऐसी स्थिति होने पर एनजीटी ने ग्रेडेड रेस्पांस एक्शन प्लान लागू किया था। उसके तहत स्थानीय प्रशासन को बढ़ते प्रदूषण की रोकथाम करनी थी।

अब से बोर्ड की टीमें रात के समय आग जलाने वालों पर नजर रखेंगी। इस संबंध में प्राधिकरण को भी पत्र लिखा गया है।

सर्दी के समय प्रदूषण का स्तर बढ़ जाता है। इसे लेकर टीमों को अलर्ट कर दिया गया है। रात के समय गश्त कर कूड़ा जलाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।’

डा. अर्चना द्विवेदी, क्षेत्राधिकारी यूपीपीसीबी