सरस जनवाद

रामलला को लेकर सुब्रह्मण्यम स्वामी का दावा- नवंबर के बाद शुरू होगा मंदिर निर्माण का कार्य, नवंबर में आएगा अयोध्या केस पर फैसला

Share

अयोध्या। अपने तर्कों के लिए जाने जाने वाले भाजपा के चर्चित नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दे दिया है. भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी रविवार सुबह रामलला के दरबार पहुंचे थे। सुब्रमण्यम स्वामी ने रामलला में दर्शन पूजन किया। दर्शन करने के बाद उन्होंने कहा कि मूलभूत अधिकार प्रॉपर्टी के अधिकार से ऊपर है, इसी आधार पर नवंबर में रामलला के पक्ष में फैसला आएगा. उन्होंने कहा कि इसी साल राम मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा.

बीते वर्ष नवंबर में राम मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो जाता क्योंकि विवादित भूमि को छोड़कर अधिग्रहित जमीन पर कोई विवाद नहीं था और यह भूमि सरकार के पास थी जिस पर दीपावली से काम शुरू किया जा सकता था, लेकिन सभी की राय थी कि मंदिर निर्माण का कार्य संपूर्ण भूमि पर एक साथ किया जाए इसीलिए सुप्रीम कोर्ट से फैसला आने का इंतजार किया गया. अब नवंबर में फैसला आने के बाद मंदिर निर्माण का कार्य शुरू होगा।

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, राम मंदिर की अधिकांश जमीन सरकार के पास है और उसने इसका राष्ट्रीयकरण कर रखा है. सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि वह जमीन किसी को दे सकता है और सरकार ने भी कहा है कि फैसला आने के बाद सारा काम एक साथ करेंगे. नवंबर में कोर्ट का आदेश आएगा और लोग खुशियां मनाना शुरू कर देंगे. सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि अधिकांश जमीन सरकार के पास है जो उसने अधिग्रहण करके रखी हुई है, और सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि सरकार वह जमीन किसी को भी दे सकती है, लेकिन सरकार ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही सारी जमीन सौंपी जाएगी. उन्होंने कहा कि पिछले नवंबर में ही काम शुरू हो सकता था लेकिन काम रोक दिया गया.