सरस जनवाद

नैनीताल : दीक्षा हत्याकांड का आरोपित इमरान उर्फ ऋषभ तिवारी गाजियाबाद से गिरफ्तार

Share

– लिव इन में साथ रहा, पीछा छुड़ाने के लिए मारा

नैनीताल :- नगर के मल्लीताल कोतवाली के पास सोमवार को नोएडा निवासी 30 वर्षीय दीक्षा मिश्रा की नग्नावस्था में मौत के मामले में पुलिस ने 36 घंटे के भीतर ही हत्यारोपित इमरान उर्फ ऋषभ को पकड़ लिया है। हत्यारोपित ने पुलिस पूछताछ में कहा है कि वह एक वर्ष से दीक्षा के साथ रह रहा था। इतने समय में ही वह उससे परेशान हो गया था। पिछले दो-ढाई माह से दोनों के बीच अनबन होने लगी थी। इसलिए वह उससे पीछा छुड़ाना चाहता था।

आरोपित के मुताबिक घटना के दिन भी जन्मदिन की पार्टी करने के बाद दोनों में तू-तू मैं-मैं हुई। इस पर दोनों ने एक-दूसरे को थप्पड़ मारे। फिर उसने दीक्षा को धक्का दिया, जिससे उसका सिर पलंग पर लगा। तभी उसने गुस्से के कारण दीक्षा की गला दबाकर हत्या कर दी।

मल्लीताल कोतवाली में बुधवार को आयोजित पत्रकार वार्ता में एसपी (अपराध) देवेंद्र पींचा ने बताया कि हत्यारोपित इमरान उर्फ ऋषभ पुत्र इत्वेजामुद्दीन निवासी ई-220 पटेलनगर द्वितीय थाना सिहानी जिला गाजियाबाद उत्तर प्रदेश को कोतवाली पुलिस ने एसओजी एवं स्थानीय पुलिस की मदद से मंगलवार शाम 7ः40 बजे गाजियाबाद में उसके घर के पास से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार करने वाली टीम में उप निरीक्षक नितिन बहुगुणा, आरक्षी जगपाल सिंह, एसओजी के त्रिलोक सिंह, कुंदन सिंह कठायत व शाहिद अली आदि शामिल रहे। एसएसपी की ओर से पुलिस टीम को ढाई हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की गई है।

घरवालों को लगा चुका है 70 लाख का चूना

हत्यारोपित के बारे में यह भी खुलासा हुआ है कि उसने अपने परिवार को बताए बिना अपने घर को गिरवी रखकर 70 लाख रुपए का लोन लिया है। इस कारण उसके अपने परिवार से भी अच्छे संबंध नहीं है। इसके अलावा उसके विरुद्ध दुर्घटना के मामले में भी केस चल रहा है। यह भी दावा किया गया कि दीक्षा को उसका नाम इमरान होने का पता था। उसके साथ रहते हुए स्थानीय लोगों को आपत्ति न हो, इसलिए उसके साथ वह ऋषभ के नाम से रहता था।

होटलों की होगी जांच

इस मामले में मृतका सहित दो जोड़े यानी चार लोग 13 अगस्त को रामनगर के ‘ला सीजन’ . 14 और 15 अगस्त को नैनीताल के गैलेक्सी होम स्टे में रुके थे। दोनों जगह होटलों ने उनसे चारों की जगह दो ही लोगों के पहचान पत्र लिए। इसलिए पुलिस ने दोनों होटलों का पुलिस एक्ट में चालान किया है है। एसपी देवेंद्र पींचा ने बताया कि पर्यटन विभाग के साथ नगर के सभी होटलों की जांच की जाएगी कि वह वैध रूप से चल रहे हैं और उनमें मानकों का पालन किया जा रहा है या नहीं।