सरस जनवाद

कांग्रेस जनता की आवाज बनकर भाजपा सरकार के खिलाफ करेगी संघर्ष : सचिन पायलट

Share

देहरादून :- राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सचिन पायलट शुक्रवार को यहां महंगाई पर केंद्र सरकार पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ कांग्रेस जनता की आवाज बन कर सड़कों पर जोरदार संघर्ष करेगी। उन्होंने यह बात पार्टी मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकार सम्मेलन में कही। एक दिवसीय दौरे पर पहुंचे सचिन पायलट का जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया।

सचिन पायलट ने कहा कि महंगाई चरम पर है। फिर भी केंद्र की मोदी सरकार सोई है। देश के 250 शहरों में पेट्रोल के दाम 100 रुपये के पार हो गए हैं। उन्होंने किसान बिल को वापस लेने की मांग भी की। पायलट ने कहा उत्तराखंड में अराजकता का माहौल है। डीजल और पेट्रोल के दाम बढ़ने का असर सभी चीजों पर पड़ता है। छह माह में करीब 66 बार पेटोलियम पदार्थ के मूल्य बढ़े हैं। देश के साथ-साथ राज्य की जनता बढ़ती महंगाई त्रस्त है।

उन्होंने कहा कि सात साल में हर मोर्चे पर भाजपा सरकार नाकाम रही। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश से लेकर उत्तराखंड सरकार की कोरोना में विफलता बताने की जरूरत नहीं है। जनता भाजपा सरकार की नाकामियों से ऊब चुकी है। उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार बनेगी। कांवड़ यात्रा को लेकर सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का पालन होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि मनमोहन सरकार के वक्त डीजल-पेट्रोल के दाम बढ़ने पर भजापा नेता सड़कों पर हंगामा करते थे। अब वो भाजपा नेता कहा हैं। सरकार को पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस के दाम कम करने होंगे। इसके लिए कांग्रेस जनता की आवाज बनकर सरकार पर लगातार दबाव बनाएगी।

सचिन पायलट ने कहा कि राष्ट्रीय बाजार में पेट्रोल और डीजल की कीमत घट रही है मगर मोदी सरकार इसकी कीमत लगातार बढ़ा रही है।

उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में केन्द्र के साथ उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सरकार नाकाम रही। देश में हजारों-लाखों लोगों की मौत ऑक्सीजन,दवाई की कमी, बेड की कमी के कारण हुई। ओएनजीसी सहित नवरत्न कंपनियों को केन्द्र सरकार कमजोर कर रही है। दो करोड़ रोजगार देने का वादा करने वाली सरकार रोजगार छीन रही है। लगातार युवा बेरोजगार हो रहे हैं।

इस मौके पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने महंगाई पर राज्य सरकार को जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि राज्य को प्रयोगशाला बना दिया गया है। प्रचंड बहुमत के बाद भी विकास नहीं हो रहा। मुख्यमंत्री को बदलने के काम में भाजपा मशगूल है। कांग्रेस राज्य में भाजपा की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष करेगी।