सरस जनवाद

रुद्रपुर में बंद का मिला-जुला असर

Share

रुद्रपुर: केंद्र द्वारा पारित कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के भारत बंद का उधम सिंह नगर जिला मुख्यालय रुद्रपुर में मिला-जुला असर देखने को मिला। शहर के मुख्य बाजार में कई व्यापारियों ने स्वेच्छा से अपने प्रतिष्ठान बंद रखे तो शहर की कालोनियों और अन्य बस्तियों में बंद का असर अपेक्षाकृत कम रहा। हालांकि साप्ताहिक बंदी के कारण पहले से बाजार बंद ही था।

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आहूत भारत बंद को सफल बनाने के लिए किसानों ने गल्ला मंडी से मुख्य बाजार होते हुए महाराजा रणजीत सिंह पार्क तक जुलूस निकाला और सुबह के समय लगभग एक-चौथाई खुले बाजार को भी हाथ जोड़कर बंद कराया। इस दौरान केवल आपातकालीन वस्तुओं की दुकानों को ही खोलने की अनुमति थी जिसमें डेयरी, मेडिकल शॉप व पेट्रोल पंप शामिल थे। भारत बंद को विभिन्न किसान यूनियनों के अलावा कांग्रेस और आप पार्टी ने भी खुलकर समर्थन किया।

इस दौरान महाराजा रणजीत सिंह पार्क के पास सभा कर किसान नेताओं ने केंद्र सरकार द्वारा लागू तीन कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताया। भारतीय किसान यूनियन (चढ़ूनी) के जिलाध्यक्ष साहब सिंह विर्क ने कहा कि केंद्र सरकार को किसान विरोधी कृषि कानून वापस लेने होंगे।

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़ ने कहा कि किसान पिछले करीब 10 महीने से सड़क पर उतरकर कानूनों का विरोध कर रहा है। सरकार के कानूनों जूं तक नहीं रेंग रही। प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के नगराध्यक्ष संजय जुनेजा ने कहा कि किसान और व्यापारी एक दूसरे के पूरक है। इसलिए बंद को सफल बनाने में सहयोग प्रदान किया गया है।