सरस जनवाद

पुलिस की शर्मानाक हरकत आई सामने

Share

नई दिल्ली पुलिस की नजर में दिव्यांग बुजुर्ग फायरिंग भी कर सकता है और घर में जमकर लूटपाट मचाकर सोने चांदी के जेवर और कीमती सामान लूटकर ले जा सकता है। पुलिस एफआईआर और केस डायरी यही कह रही है। अब पुलिस ने जब जांच पड़ताल शुरू की तो बुजुर्ग के दोनों हाथ न देखकर दंग रह गई। आरोपी बनाए गए दिव्यांग के परिवार के लोग बारादरी थाने से लेकर एसएसपी से गुहार लगा रहे हैं। इसके बाद भूल सुधार करते हुए पुलिस डकैती के मुकदमे से बुजुर्ग का नाम बाहर करने जा रही है।

जोगी नवादा चक महमूद की रहने वाली गुलफ्शा और उसके पति बिलाल के बीच मारपीट हो गई थी। इसके बाद गुलफ्शा अपने मायके में आ गईं। इसी कहासुनी के बाद 25 जून को जोगी नवादा के रहने वाले गुलफ्शा के परिवार के छात्र मुश्ताक की बिलाल पक्ष के लोगों ने बड़ा बाईपास पर गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद गुलफ्शा पक्ष के शकील ने जोगी नवादा के रहने वाले गुड्डू, अकरम, गटे, नाजिम, अफसर हाजी, अफजाल, दिव्यांग वकीलउद्दीन के खिलाफ डकैती का मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप था कि वकीलउद्दीन जोगी नवादा में तमंचा राइफल से फायरिंग करते हुये शकील के घर में घुस गये। उन्होंने सोने की झुमकी, सोने की चेन, चांदी की पायल, 70 हजार रुपये लूट ले गये। शकील ने दीवार कूदकर अपनी जान बचाई। उस वक्त शकील के बच्चे घर पर नहीं थे। काफी देर तक हमलावर वहां बवाल करते रहे। इसके बाद फरार हो गये। शकील की तहरीर पर सातों आरोपियों के खिलाफ बलवा, डकैती समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। अब पुलिस की विवेचना में सामने आया कि वकीलउदीन के दोनों हाथ ही नहीं है। ऐसे में उन्होंने फायरिंग लूटपाट कैसे की।

थाने पहुंचे वकीलउद्दीन ने बताया कि घटना के बाद उल्टे हमलावर उनके घर में घुस गये। जेवर लूट लिया। कई दिनों तक उनके जानवर भूखे प्यासे रहे। घर में सोना और काफी सामान था। पुलिस से कहते रहे, लेकिन पुलिस ने निकालने नहीं दिया। हमलावर माल लूट ले गये।