सरस जनवाद

वाहन चेकिंग मामले में हार्ट अटैक आने से हुई युवक की मौत की जांच करेगा प्रशासन, दोषियों पर होगी कड़ी कारवाही

Share

नॉएडा। राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच-9) पर मॉडल टॉउन के पास चेकिग के दौरान हार्ट अटैक आने के बाद अस्पताल में हुई युवक की मौत मामले में शासन ने जांच कर आरोपित पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। उप सचिव महेंद्र प्रसाद भारती ने गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र भेज कर जांच कर कार्रवाई से अवगत कराने का निर्देश दिया है।

दरअसल छह दिन पूर्व नोएडा में वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस से नोकझोंक में एक युवक को हार्ट अटैक पड़ा गया। इसके बाद युवक को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। साफ्टवेयर मार्केटिंग का काम करने वाला युवका कार में अपने पिता के साथ जा रहा था। पुलिसकर्मियों ने कार में डंडा मारकर रोका तो पिता-पुत्र ने इस पर आपत्ति की। गहमागहमी के बीच अचानक गौरव बेसुध होकर गिर पड़े और उनकी सांसें थम गईं। गौरव की हालत देखकर माता-पिता सकते में आ गए। परिजनों का कहना है कि पुलिसकर्मी मदद करने के बजाय वहां से चुपचाप चले गए। आसपास के लोग मदद के लिए पहुंचे और गौरव को पहले फोर्टिस और फिर कैलाश अस्पताल पहुंचाया गया। इसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत गई।

पिता का आरोप था कि पुलिसकर्मियों के दु‌र्व्यवहार के कारण उनके बेटे को हार्ट अटैक आया। उन्होंने इसकी जांच कर दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर शासन से शिकायत की थी। इस बारे में गौतमबुद्धनगर के एसएसपी वैभव कृष्ण ने उस वक़्त कहा था कि हमें सोशल मीडिया से इस घटना की जानकारी मिली। सेक्टर-58 थाना पुलिस की चेकिंग के दौरान ऐसी कोई घटना होने की जानकारी नहीं मिली है। डॉक्टर ने बताया कि मृतक गौरव डायबिटिक थे। एसएसपी ने कहा था कि पुलिस ने उनके साथ कोई दुर्व्यहार नहीं किया। अगर परिजनों की कोई शिकायत है तो वह बताएं, कार्रवाई की जाएगी। शुक्रवार को उप सचिव महेंद्र प्रसाद भारती ने गौतमबुद्ध नगर और गाजियाबाद के एसएसपी को जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

Leave a Reply