खेत पर पहुंचे जिलाधिकारी और खुद काटी फसल, लोग रह गए स्तब्ध

Share

गाजियाबाद :- जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय को रजापुर ब्लॉक के भिक्कनपुर गांव में धान की फसल स्वयं काटते हुए देख ग्रामीण
आश्चर्य चकित रह गए। जब तक ग्रामीण पूरी बात समझ पाते
तब तक अनेक तरह के कयास लगते रहे। हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों ने जब ग्रामीणों को बताया कि प्रशासनिक अमला धान की फसल के उत्पादन का पता लगाने के लिए आया है तब जाकर किसानों को पूरा मामला समझ में आया।

दरअसल, जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय पूरे प्रशासनिक अमले के साथ रजापुर ब्लाक के गांव भिक्कनपुर पहुंचे। यहां उन्होंने धान के एक खेत का चयन किया और उसके मालिक को मौके पर बुला लिया गया। प्रशासनिक अधिकारी धान काटने के कृषि यंत्र और धान की फसल तौलने के लिए कांटा भी साथ ले गए थे। जिलाधिकारी ने किसानों से धान की फसल के बारे में विस्तार से जानकारी ली।

खेतों में पानी भरा होने के बाद भी जब जिलाधिकारी ने कहा कि लाओ धान काटने का यंत्र मैं खुद ही धान की फसल काटूंगा। जिलाधिकारी कृषि यंत्र लेकर जब धान की फसल काटने के लिए पानी भरे हुए खेत में पहुंचे तो अधीनस्थ कर्मचारी स्तब्ध रह गए। जिलाधिकारी ने धान की फसल काटी और कर्मचारियों से उसमें से धान निकालने को कहा। धान निकालने के बाद उसे कांटे पर तौला गया। इसके बाद आकलन किया गया कि कितने हेक्टेयर में कितनी धान की फसल की पैदावार होगी।

बता दें कि प्रदेश में धान व गेंहू की फसल का सत्यापन कराया जा रहा है। उत्तर प्रदेश की दो प्रमुख फसल गेंहू व धान की होती है। ऐसे में उसका समर्थन मूल्य तय करने के लिए प्रत्येक जिले से उसके सत्यापन की रिपोर्ट भेजी जानी है। रिपोर्ट में बताया जाएगा कि कितनी भूमि में कितना धान होता है। बल्कि फसल किस तरह की होती है। गुरुवार को जिलाधिकारी ने स्वयं भिक्कनपुर पहुंचकर फसल काटी और उसकी तौल कराई ।

जिलाधिकारी ने इस दौरान भिक्कनपुर के ग्रामीण बलवीर सिंह के खसरा नंबर -460 के खेत में स्वयं फसल कटाई कर रिपोर्ट तैयार की। इस मौके पर कई प्रशासनिक अधिकारी भी उनके साथ थे।